Menu

बैंकों में आधार पंजीकरण और अद्यतन केंद्र (एईसी) की स्थापना के लिए सहायता: विस्तार
वित्तीय समावेशन निधि (एफआईएफ) सलाहकार मण्डल ने 25 फरवरी 2019 को उपर्युक्त योजना की समीक्षा की और बैंकों में मार्च 2019 तक स्थापित एईसी को शामिल करने और योजना की समयावधि को 30 सितंबर 2019 तक बढ़ाने का निर्णय लिया है. कृपया 27 जून 2018 का हमारा परिपत्र सं. 160 देखें जिसमें निम्नलिखित संशोधन किए गए हैं:
 
(i) 01 अप्रैल 2018 से 31 मार्च 2019 की अवधि के बीच स्थापित एईसी भी एफ़आईएफ़ के अंतर्गत सहायता के लिए पात्र हैं.
(ii) 31 मार्च 2019 तक एईसी की स्थापना के बाद बैंक 30 सितंबर 2019 तक अपना दावा प्रस्तुत कर सकते हैं.
 
(iii) 01 दिसंबर 2017 से 31 मार्च 2019 के बीच स्थापित एईसी के लिए सहायता राशि रु.75,000/- होगी.
बैंकों में आधार पंजीकरण और अद्यतन केंद्र (एईसी) की स्थापना के लिए सहायता: विस्तार
वित्तीय समावेशन निधि (एफआईएफ) सलाहकार मण्डल ने 25 फरवरी 2019 को उपर्युक्त योजना की समीक्षा की और बैंकों में मार्च 2019 तक स्थापित एईसी को शामिल करने और योजना की समयावधि को 30 सितंबर 2019 तक बढ़ाने का निर्णय लिया है. कृपया 27 जून 2018 का हमारा परिपत्र सं. 160 देखें जिसमें निम्नलिखित संशोधन किए गए हैं:
 
(i) 01 अप्रैल 2018 से 31 मार्च 2019 की अवधि के बीच स्थापित एईसी भी एफ़आईएफ़ के अंतर्गत सहायता के लिए पात्र हैं.
 
(ii) 31 मार्च 2019 तक एईसी की स्थापना के बाद बैंक 30 सितंबर 2019 तक अपना दावा प्रस्तुत कर सकते हैं.
 
(iii) 01 दिसंबर 2017 से 31 मार्च 2019 के बीच स्थापित एईसी के लिए सहायता राशि रु.75,000/- होगी.
 
(iv) ‘पहले आओ, पहले पाओ’ के आधार पर बजट की उपलब्धता तक अथवा 13589 एईसी स्थापित होने तक बैंक की कुल शाखा के अधिकतम 10% तक के लिए को सहायता प्रदान की जाएगी.
 
3. साथ ही, उपर्युक्त परिपत्र के साथ संलग्न प्रारूप में निम्नलिखित संशोधन के साथ दावा प्रस्तुत किया जा सकता है:
 
i. दावा प्रारूप में दी गई तालिका में "अवधि जिसके दौरान एईसी की स्थापना की गई है" के लिए 01 अप्रैल 2018 से 31 मार्च 2019 की अवधि होनी चाहिए.
ii. उपर्युक्त परिपत्र के मद 5 (iii) में उल्लिखित जीएसटी अब 11 दिसंबर 2018 के परिपत्र संख्या 290 / डीएफ़आईबीटी-39/2018 के अनुसार अधिशासित होंगे और उसे निम्नलिखित प्रारूप में दिया जाएगा:
 
4. उपर्युक्त परिपत्र के अन्य नियम और शर्तें अपरिवर्तित रहेंगी.
 
भवदीय,
(एल आर रामचंद्रन)
मुख्य महाप्रबंधक