Menu

बैंकों का धोखाधड़ी संवेदनशीलता सूचकांक (वीआईएनएफ़आरए)
संदर्भ सं.राबैं.डॉस./सीएफ़एमसी/2019-20 दिनांक    06  फरवरी 2020
 
(परिपत्र सं.            /डॉस -         / 2019-20    दिनांक   06 फरवरी 2020) 
अध्यक्ष / सीईओ 
सभी क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक / सभी सहकारी बैंक 
 
प्रिय महोदय / महोदया,
 
बैंकों का धोखाधड़ी संवेदनशीलता सूचकांक (वीआईएनएफ़आरए)
 
ग्रामीण वित्तीय संस्थाओं में धोखाधड़ी की बढ़ती घटनाएँ चिंता का विषय है. धोखाधड़ी को रोकने की प्राथमिक ज़िम्मेदारी संबंधित बैंकों की होती है. इसे ध्यान में रखते हुए नाबार्ड समय-समय पर बैंकों को धोखाधड़ी प्रबंधन, धोखाधड़ी रोकने के लिए नियंत्रण प्रणाली स्थापित करने के साथ-साथ धोखाधड़ी की घटनाओं से निपटने के लिए प्रोटोकॉल के बारे में सूचित करता रहा है. 
 
2. पूरे भारत में स्थित ग्रामीण वित्तीय संस्थाओं द्वारा धोखाधड़ी मोनिटरिंग दिशानिर्देशों के कार्यान्वयन पर हमने अध्ययन करवाया है और इस संबंध में पर्यवेक्षण बोर्ड के समक्ष एक प्रस्तुतीकरण दिया गया था. इसके बाद, बैंकों में धोखाधड़ी प्रबंधन दिशानिर्देशों के अनुपालन के स्थिति जानने के लिए एक धोखाधड़ी संवेदनशीलता सूचकांक (वीआईएनएफ़आरए) नामक सूचकांक तैयार किया गया है ताकि बैंकों को इस प्रकार की घटनाओं की संवेदनशीलता के बारे में जागरूक बनाया जा सके. 
 
3. इस सूचकांक में बैंकों में धोखाधड़ी की संभावित घटनाओं पर प्रभाव डालने वाली नीतियों, उनके कार्यान्वयन, नियंत्रण प्रणाली और बैंकों द्वारा कार्यान्वित समस्या संकेतकों को शामिल किया गया है. 
 
4. इस सूचकांक को निरीक्षण मॉड्यूल/ ओएसएस वार्षिक रिटर्न में एक सांविधिक निरीक्षण स्टेटमेंट के रूप में शामिल किया जा रहा है. एन्श्योर प्लैटफ़ार्म में इस रिटर्न में प्रस्तुत डाटा से उच्च प्रबंधन को बैंक में धोखाधड़ी रोकने के लिए स्थापित प्रणाली का मूल्यांकन करने के साथ-साथ इस संबंध में समुचित अपेक्षित कार्रवाई में मदद मिलेगी. बैंकों को सूचित किया जाता है कि वे इस संबंध में आगे आंतरिक दिशानिर्देश और आवश्यक कार्रवाई हेतु इस फीडबैक को अपनी ऑडिट समिति और बोर्ड के समक्ष रखें.
 
5. कृपया पावती दें. 
भवदीय