Menu

एक कॉर्पोरेट ग्राहक के रूप में प्रायोजक बैंकों और क्षेग्रा बैंकों (आरआरबी)/ग्रामीण सहकारी बैंकों(आरसीबी) / शहरी सहकारी बैंकों के बीच पेमेंट ईकोसिस्टम के नियंत्रण को सुदृढ़ बनाना
 
बाह्य परिपत्र सं. 85 / डॉस-08 /2021
राबै.डॉस.प्रका. सीएसआईटीई /227/सीएस-01/2021-22             27 अप्रैल, 2021 
अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक / मुख्य कार्यपालन अधिकारी 
सभी क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक / सभी राज्य सहकारी बैंक/ सभी जिला सहकारी बैंक 
महोदया / प्रिय महोदय,
 
एक कॉर्पोरेट ग्राहक के रूप में प्रायोजक बैंकों और क्षेग्रा बैंकों (आरआरबी)/ग्रामीण सहकारी बैंकों(आरसीबी) / शहरी सहकारी बैंकों के बीच पेमेंट ईकोसिस्टम के नियंत्रण को सुदृढ़ बनाना  
 
कृपया विस्तृत साइबर सुरक्षा फ्रेमवर्क पर दिनांक 06 फरवरी 2020 के हमारे बाह्य परिपत्र सं. 32 और 33/डॉस-07 तथा डोमेन ईमेल पर दिनांक 10 दिसंबर 2019 के परिपत्र सं.315/डॉस-31/2019 का अवलोकन करें, जिसमें क्षेग्रा बैंकों (आरआरबी) और ग्रामीण सहकारी बैंकों(आरसीबी) को अन्य बातों के साथ-साथ यह सूचित किया गया था कि उक्त परिपत्र के जारी होने की तिथि से तीन माह के भीतर बैंक विशिष्ट ईमेल डोमेन कार्यान्वित कर लिया जाए. लेकिन, यह पाया गया है कि कई क्षेग्रा बैंकों (आरआरबी) और ग्रामीण सहकारी बैंकों(आरसीबी) ने अभी तक इस आवश्यकता का अनुपालन नहीं किया है.
 
2. ऊपर अंकित चिंताओं और पेमेंट ईकोसिस्टम से जुड़े जोखिमों के मद्देनजर, क्षेग्रा बैंकों (आरआरबी) और ग्रामीण सहकारी बैंकों (आरसीबी), जो अन्य आरआरबी/आरसीबी/यूसीबी के लिए पेमेंट ट्रांजैक्शन- फंड ट्रांसफर और/ या इन्टरनेट बैंकिंग सेवा उपलब्ध कराने हेतु प्रयोजक बैंक के रूप में कार्य कर रहे हों, को निम्नानुसार सूचित किया जाता है:   
 
 (a) वे आरआरबी/आरसीबी/यूसीबी से पुष्टि अवश्य प्राप्त कर लें कि उन्होंने उनके द्वारा किए गए ट्रांजैक्शन का मिलान (कम से कम दैनिक आधार पर) कर लिया है.  यदि आरआरबी/आरसीबी/यूसीबी से पुष्टि प्राप्त नहीं होती है, तो अपने जोखिम आकलन के आधार पर प्रायोजक बैंक, आरआरबी/आरसीबी/यूसीबी से पुष्टि प्राप्त होने तक अपनी सेवाओं को स्थगित कर सकते हैं.    
 
(b) जिन आरआरबी/आरसीबी/यूसीबी को प्रायोजक बैंक की सेवा उपलब्ध करा रहे हों,    तो इन बैंकों से बैंक के डोमेन से इतर किसी अन्य डोमेन (e.g. gmail, rediff ) से भेजे गए ईमेल को स्वीकार नहीं करें. यदि आरआरबी/आरसीबी/यूसीबी ने इस आवश्यकता का अनुपालन नहीं किया हो, तो अपने जोखिम आकलन के आधार पर प्रायोजक बैंक इन आरआरबी/आरसीबी/यूसीबी के साथ अपनी सेवाएं स्थगित कर  सकते हैं.    
 
तथापि, यदि आरआरबी/आरसीबी/यूसीबी उक्त आवश्यकता का अनुपालन 30 अप्रैल 2021 तक नहीं करते हैं, तो प्रायोजक बैंक इन आवश्यकताओं के अनुपालन होने तक अपनी सेवाएँ ( जिस कार्य के लिए ईमेल आईडी जरूरी है) स्थगित कर  सकते हैं.
 
3.  हम इसके साथ भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा जारी दिनांक 24 फरवरी 2021 की  एड्वाइजरी सं. यूसीबी1/2021 की एक प्रति भी भेज रहे हैं.
 
4.  कृपया इसकी प्राप्ति सूचना हमारे संबन्धित क्षेत्रीय कार्यालय को भिजवाएं. 
भवदीय 
(के एस रघुपति)
मुख्य महाप्रबंधक 
संलग्नक: यथोक्त