Menu
उज्बेकिस्तान के जेएससीबी एग्रो बैंक के प्रतिनिधि मंडल की नाबार्ड के अध्यक्ष के साथ मुलाकात
मुंबई | 02 July 2019 10:17 AM
उज्बेकिस्तान के जेएससीबी एग्रो बैंक के एक उच्च स्तरीय प्रतिनिधि मंडल ने 02 जुलाई 2019 को नाबार्ड के अध्यक्ष के साथ मुलाकात की. इस मुलाकात में आपसी सहयोग के क्षेत्रों पर चर्चा हुई. इस प्रतिनिधि मंडल में निम्नलिखित सदस्य शामिल थे :
 
क. श्री  शेरोव अबदुरखमोन सत्तोरोविच, जेएससीबी एग्रो बैंक के प्रथम उपाध्यक्ष
ख. श्री नामोजोव यूचकुन, जेएससीबी एग्रो बैंक के वित्त विभाग के निदेशक
ग. श्री यूनुस्खोडजाव इल्खोमहुजा, जेएससीबी एग्रो बैंक के विदेश आर्थिक कार्य विभाग के निदेशक 
घ. श्री बोटिरोव सलोखिद्दिन, जेएससीबी एग्रो बैंक के कृषि उद्यम वित्तपोषण विभाग के प्रमुख 
ङ. श्री काखरामोन मुमिनोव, जेएससीबी एग्रो बैंक के कॉरेस्पोंडेंट रिलेशन्स एण्ड डॉक्यूमेन्टरी ऑपरेशन्स के प्रमुख.
 
इस बैठक में हुई चर्चा में सीपीडी, डॉर, डियर और एफएसपीडी विभाग के मुख्य महाप्रबंधकों के साथ-साथ सीपीडी  और नैबकॉन्स के वरिष्ठ अधिकारियों ने भी भाग लिया.  प्रतिनिधि मंडल ने भारत में कृषि और ग्रामीण विकास के क्षेत्र में नाबार्ड की भूमिका को समझने में गहरी रुचि दिखाई.
 
नाबार्ड के अध्यक्ष ने नाबार्ड की स्थापना और इसके स्वामित्व के बारे में उन्हें अवगत कराया. उन्होंने कृषि क्षेत्र, विशेष रूप से वॉटरशेड के विकास में नाबार्ड की भूमिका को रेखांकित किया. इस दौरान, नाबार्ड के बल क्षेत्र नामत: ग्रामीण क्षेत्रों का समन्वित विकास, महिलाओं का विकास, छोटे और सीमांत किसानों और खाद्य प्रसंस्करण उद्योग पर भी प्रकाश डाला गया. उन्होंने नाबार्ड की सहायक संस्थाओं और नैबकॉन्स की कन्सल्टेन्सी भूमिका से भी प्रतिनिधि मंडल को अवगत कराया. उन्होंने ग्रामीण क्षेत्रों में  स्थित बैंकों के क्षमता निर्माण में बैंकर ग्रामीण विकास संस्थान (बर्ड) की भूमिका और सेंटर ऑफ एक्सेलेन्स की स्थापना का भी उल्लेख किया.
 
पुनर्वित्त विभाग के मुख्य महाप्रबंधक ने प्रतिनिधि मंडल के साथ गहन विचार-विमर्श किया और उन्होंने भारत में बैंकिंग संरचना के बारे में विस्तार से उल्लेख किया. उन्होंने प्रतिनिधि मंडल को अवगत कराया कि बैंकर ग्रामीण विकास संस्थान (बर्ड) जलवायु परिवर्तन संबंधी परियोजना के वित्तपोषण के लिए जेएससीबी एग्रो बैंक हेतु प्रशिक्षण कार्यक्रम तैयार कर सकता है.  सीपीडी के मुख्य महाप्रबंधक ने जेएससीबी एग्रो बैंक की बिजनेस प्रोसेस रि-इंजीनियरिंग के लिए नैबकॉन्स के माध्यम से सहयोग की संभावनाओं को रेखांकित किया. 
 
एफएसपीडी के मुख्य महाप्रबंधक ने यूनाइटेड नेशन्स फ्रेमवर्क कन्वेन्शन ऑन क्लाइमेट चेंज के लिए राष्ट्रीय कार्यान्वयन एंटिटी और ग्रीन क्लाइमेट फंड के लिए डायरेक्ट एक्सेस एंटिटी के रूप में नाबार्ड की भूमिका का उल्लेख किया. उन्होंने यह भी कहा कि  नाबार्ड जेएससीबी एग्रो बैंक को यूएनएफसीसीसी के लिए राष्ट्रीय कार्यान्वयन एंटिटी बनने में सहायता कर सकता है. डियर के  मुख्य महाप्रबंधक ने अपशिष्ट प्रबंधन और सौर ऊर्जा कन्सल्टेन्सी की संभावनाओं के बारे में उनसे जानना चाहा. सीपीडी के महाप्रबंधक ने प्रतिनिधि मंडल का स्वागत किया और उन्होंने कृषि क्षेत्र के वित्तपोषण और कृषि क्षेत्र के लिए सरकारी प्रोत्साहन योजनाओं जैसे आपसी हित के विषयों का उल्लेख किया. सीपीडी के उप महाप्रबंधक ने नाबार्ड के कार्यक्षेत्र से जुड़े सभी प्रमुख विषयों पर एक प्रस्तुतीकरण दिया. नैबकॉन्स के उपाध्यक्ष ने नैबकॉन्स की गतिविधियों का संक्षेप में उल्लेख किया.
 
प्रतिनिधि मंडल ने नाबार्ड के साथ मिलकर कार्य करने में रुचि दिखाई. प्रतिनिधि मंडल ने आपसी सहयोग की संभावनाओं का पता लगाने के लिए नाबार्ड से एक उच्च स्तरीय प्रतिनिधि मंडल को उज्बेकिस्तान में एक्सपोजर विजिट पर आने पर भी बल दिया.
बैठक का समापन धन्यवाद प्रस्ताव के साथ हुआ. इस बैठक की कुछ तस्वीरें संलग्न हैं.