Menu

नाबार्ड द्वारा राज्‍य सहकारी बैंकों को मौसमी कृषि परिचालनों (मौसमी कृषि परिचालन) हेतु वित्‍तपोषण के लिए अतिरिक्‍त अल्‍पावधि (एसटी) पुनर्वित्‍त का प्रावधान – वित्‍तीय वर्ष 2019-20 के लिए नीति
सं. सं. राबैं.पुनर्वित्त. एसटी/ 3291 / ए-1(सामान्‍य)/ 2018-19                      
परिपत्र सं. 85 / पुनर्वित्त - 27/ 2019  
 
28 मार्च 2019
 
प्रबंध निदेशक 
सभी राज्‍य सहकारी बैंक 
 
प्रिय महोदय,
 
नाबार्ड द्वारा राज्‍य सहकारी बैंकों को मौसमी कृषि परिचालनों (मौसमी कृषि परिचालन) हेतु वित्‍तपोषण के लिए अतिरिक्‍त अल्‍पावधि (एसटी) पुनर्वित्‍त का प्रावधान – वित्‍तीय वर्ष 2019-20 के लिए नीति 
 
कृपया उपर्युक्‍त विषय पर दिनांक 05 अप्रैल 2018 का हमारे परिपत्र सं. राबैं.पुनर्वित्‍त.अल्‍पावधि.नीति/ 56/ए-1(सामान्‍य) /2018-19 (परिपत्र सं.65/पुनर्वित्‍त-13/201८) का अवलोकन देखें जिसमें वर्ष 2018-1९ के लिए राज्‍य सहकारी बैंक को अतिरिक्‍त अल्‍पावधि (एसटी) पुनर्वित्‍त की स्‍वीकृति की नीति दी गई है. उक्त नीति की अब समीक्षा की गई है और यह मोटे तौर पर पिछले वर्ष के नीति की तरह ही है.  अतिरिक्त अल्पावधि पुनर्वित के अंतर्गत स्वीकृत कुल सीमा, सामान्य अल्पावधि (मौकृप) के अंतर्गत पात्र सीसीबी की आरएलपी के 60 % से अधिक नहीं होनी चाहिए या फिर अनुबंध I के पैरा ‘4’ अनुसार होनी चाहिए .विस्‍तृत नीति का उल्‍लेख अनुबंध I में किया गया है. 
 
2. इस ऋण सुविधा के अंतर्गत , राज्य सहकारी बैंक आधार भूत ऋण (जीएलसी) के 60% (एसटीसीआरसी निधि के अंतर्गत आहरित राशि का निवल) या जैसे भी मामला हो, आहरण कर सकते हैं । 
 
3. आप सभी पात्र जिला मध्यवर्ती सहकारी बैंकों की ओर से अतिरिक्त अल्पावधि(मौकृप) ऋण सीमा की स्वीकृति के लिए निर्धारित प्रोफॉर्मा में नाबार्ड के क्षेत्रीय कार्यालय को आवेदन प्रस्तुत करें. 
 
4. कृपया इस परिपत्र की पावती हमारे क्षेत्रीय कार्यालय को दें. 
 
भवदीय,
 
जी आर चिंताला 
मुख्य महाप्रबंधक
अनुलग्नक: यथोक्‍त