Menu

मौसमी कृषि कार्यों के वित्तपोषण के लिए राज्य सहकारी बैंकों को नाबार्ड द्वारा अतिरिक्त अल्पावधि (एसटी) पुनर्वित्त का प्रावधान - वर्ष 2020-21 के लिए नीति
कृपया दिनांक 28 मार्च 2019 एवं 23 अगस्त 2019 के हमारे परिपत्र पत्र सं. एनबी.डीओआर एसटी नीति /3291/ए-1 (जन)/ 2018-19 (परिपत्र संख्या 85 / डीओआर - 27 / 2019) एवं एनबी.डीओआर एसटी नीति /1491/ए-1 (जन)/ 2019-20 (परिपत्र संख्या 255  / डीओआर - 72 / 2019 का उपर्युक्त विषय पर संदर्भ लें जिसमे वित्त वर्ष 2019-20 के लिए मौसमी कृषि संचालन (एसएओ) के वित्तपोषण नीति में संशोधन / नीति के लिए राज्य सहकारी बैंकों को अतिरिक्त अल्पावधि (एसटी) पुनर्वित्त की मंजूरी की जानकारी दी गयी थी । तब से नीति की समीक्षा की गई है और इसे अंतिम रूप दिया गया है जो की अनुबंध-I मे प्रसतूत है । अतिरिक्त अल्पावधि पुनर्वित्त के तहत स्वीकृत कुल सीमा 3 स्तरीय संरचना में पात्र जिला मध्यवर्ती सहकारी बैंकों और 2 स्तरीय संरचना के मामले में राज्य सहकारी बैंक के वास्तविक ऋण वितरण के 60% तक होगी जिसमे सामान्य अल्पावधि (मौकृप ) के तहत बकाया भी शामिल होगा या अनुबंध- I के पैरा '4' के अनुसार होनी चाहिए ।
 
2. इस ऋण सुविधा के अंतर्गत , राज्य सहकारी बैंक आधार भूत ऋण (जीएलसी) के 60% (एसटीसीआरसी निधि के अंतर्गत आहरित राशि सहित) या जैसे भी मामला हो, आहरण कर सकते हैं । 
 
3. आप सभी पात्र जिला मध्यवर्ती सहकारी बैंकों - 3 स्तरीय संरचना में /राज्य सहकारी बैंक-2 स्तरीय संरचना में की ओर से अतिरिक्त अल्पावधि (मौकृप) ऋण सीमा की स्वीकृति के लिए निर्धारित प्रोफॉर्मा में उस राज्य के नाबार्ड के क्षेत्रीय कार्यालय को आवेदन प्रस्तुत करें ।  
 
4. कृपया इस परिपत्र की पावती हमारे क्षेत्रीय कार्यालय को दें ।