Menu

नाबार्ड द्वारा राज्य सहकारी बैंकों को अल्पावधि (अन्य ) के तहत विभिन्न प्रयोजनों के वित्तपोषन हेतु अल्पावधि पुनर्वित्त योजना - वर्ष 2020-21 के लिए नीति
1.   कृपया दिनांक 29 मार्च 2019 के हमारे परिपत्र पत्र सं.एनबी.डीओआर / 3310 /ए-1 (अल्पावधि - अन्य)/ 2018-19 ( परिपत्र संख्या 87 / डीओआर - 29 / 2019) का संदर्भ लें जिसके साथ वर्ष 2019-20 के लिए फसलों के विपणन और मौसमी कृषि ऋण से इतर कुछ अन्य अनुमोदित प्रयोजनों के लिए वास्तविक ऋण कार्यक्रम के आधार पर वित्तपोषण के लिए पात्र मध्यांवर्ती सहकारी बैंकों की ओर से राज्य सहकारी बैंकों को समेकित अल्पावधि (अन्य) सीमाओं की मंजूरी के लिए नाबार्ड की नीति भेजी गई थी।
 
2. इस नीति की समीक्षा की गई और यह निर्णय लिया गया है कि 12% तक शुद्ध एनपीए वाले राज्य सहकारी बैंक वित्तीय वर्ष 2020-21 में पुनर्वित्त के लिए पात्र होंगे । वर्ष 2020-21 के दौरान नाबार्ड द्वारा अल्पावधि (अन्य) पुनर्वित्त को संचालित करने वाले प्रावधान अनुबंध-I में दिए गए है। विभिन्न प्रयोजनों के लिए अब तक अपनाए जा रहे मूल्यांकन मानदंड यथावत जारी रहेंगे, जैसाकि अनुबंध II में किया गया है। 
 
3. निम्नलिखित उद्देश्य भी पुनर्वित्त के लिए पात्र हैं 
 
(i) कृषि और संबद्ध गतिविधियों के लिए एसटी एग्री गोल्ड लोन।
(ii) पशुपालन और मत्स्य गतिविधियों की कार्यशील पूंजी आवश्यकताओं के लिए लघु वित्त।
 
4. नाबार्ड से राज्य सहकारी बैंकों को पुनर्वित्त सहायता समय-समय पर नाबार्ड द्वारा सलाह के अनुसार ब्याज दर पर उपलब्ध होगी।
 
5. कृपया इस परिपत्र की विषय वस्तु आपके कार्यक्षेत्र में कार्य करने वाले नियंत्रक कार्यालयों/मध्यवर्ती सहकारी बैंकों के ध्यान में लाएँ ।
 
6.        राज्य सहकारी बैंक अल्पावधि (अन्य) ऋण सीमा की मंजूरी के लिए प्रोफ़ार्मा में सभी तरह से पूर्ण आवेदन नाबार्ड के संबंधित क्षेत्रीय कार्यालय को तुरंत भेज दें ताकि वर्ष 2020-21 के लिए सीमाओं की स्वीकृति समय पर की जा सकें। 
 
6. कृपया इस परिपत्र की पावती हमारे संबंधित क्षेत्रीय कार्यालय को दें।