Menu

अल्‍पावधि कृषि ऋणों के लिए आधार लिंकेज का अनुपालन – ब्‍याज सहायता योजना और त्‍वरित चुकौती प्रोत्‍साहन – लाभ
आप जानते हैं, आधार (लक्षित वित्‍तीय और अन्‍य सब्सिडी, लाभ और सेवाओं को उपलब्‍ध कराना) अधिनियम 2016 के प्रावधानों के अनुसरण में ब्‍याज  सहायता  युक्‍त अल्‍पावधि फसल ऋण, त्‍वरित चुकौती प्रोत्‍साहन, प्रधान मंत्री फसल बीमा योजना (पीएमएफबीवाई) आदि भारत सरकार की योजनाओं के लाभार्थियों की आधार संबंधी जानकारी की प्राप्ति बैंकों के लिए अनिवार्य है.  
 
2.  कृपया 31 जुलाई 2017 का हमारा परिपत्र सं. पुनर्वित्‍त नीति / 189/ 190 देखें जिसमें वर्ष 2017-18 के दौरान अल्‍पावधि फसल ऋण लेने वालों के लिए आधार लिंकेज प्राप्‍त करना ग्राहक बैंकों के लिए अनिवार्य करने और ब्‍याज सहायता की प्रतिपूर्ति का दावा करते समय बैंकों को केसीसी युक्‍त आधार लिंकेज सुनिश्चित करने की सूचना दी गई है.   
 
3.  भारत सरकार, कृषि एवं किसान कल्‍याण मंत्रालय कृषि, सहकारिता और किसान कल्‍याण विभाग ने 02 जुलाई 2020 के अपने पत्र सं. एफ. सं. 1-12/2020- क्रेडिट (संलग्‍न) के माध्‍यम से अल्‍पावधि कृषि ऋणें के समक्ष ब्‍याज सहायता और त्‍वरित चुकौती प्रोत्‍साहन का लाभ लेने के लिए (असम, जम्‍मू और कश्‍मीर व मेघालय को  छोड़कर) सभी किसानों के लिए आधार नंबर /आधार नामांकन संख्‍या प्राप्‍त करने की आवश्‍यकता को दोहराया है और लाभार्थी खातों की 100 प्रतिशत आधार जानकारी प्राप्‍त करने की सूचना दी है. हमें आशा है कि आपके द्वारा प्रस्‍तुत ब्‍याज सहायता संबंधी दावों के लिए सभी केसीसी खाता धारकों की आधार संबंधी जानकारी प्राप्‍त की गई है. आधार प्रमाणीकरण उपयोग करने वाले आधार युक्‍त व्‍यक्तिगत लाभार्थियों बैंक खातों में शीघ्र ही फसल ऋण पर ब्‍याज रियायत का प्रत्‍यक्ष अंतरण किए जाने की संभावना है.  
 
4.  साथ ही, भारत सरकार ने निर्णय किया है कि आधार संख्‍या/ आधार नामांकन संख्‍या प्राप्‍त न किए गए खातों के समक्ष ब्‍याज सहायता और त्‍वरित चुकौती प्रोत्‍साहन का लाभ उपलब्‍ध नहीं होगा. 
 
5.  जिन केसीसी खातों को आधार से नहीं जोड़ा गया है, यदि कोई हो, उन्‍हें प्राथमिकता के आधार पर 31 जुलाई 2020 से पहले जोड़ लिया जाए  और एक प्रमाण पत्र हमें उपलब्‍ध कराया जाए.   इसी प्रकार के प्रमाण पत्र जिला मध्‍यवर्ती सहकारी बैंकों से प्राप्‍त कर रिकॉर्ड के लिए हमें भेजे जाएं.  इस निर्धारित शर्त के किसी प्रकार के उल्‍लंघन को गंभीरता से लिया जाएगा. 
 
6. आगे से (असम, जम्‍मू और कश्‍मीर और मेघालय को छोड़कर) सभी बैंक ब्‍याज सहायता और त्‍वरित चुकौती प्रोत्‍साहन का दावा करते समय लेखा परीक्षित दावों के साथ यह प्रमाणपत्र प्रस्‍तुत करेंगे कि उन सभी किसानों के आधार नंबर/ आधार नामांकन संख्‍या बैंक के पास उपलब्‍ध हैं जिनके लिए ब्‍याज सहायता और त्‍वरित चुकौती प्रोत्‍साहन का दावा किया गया है और (उन तीन राज्‍यों को छोड़कर) प्रतिपूर्ति का कोई मामला उनके पास नहीं है जिनका आधार/ आधार नामांकन संख्‍या उपलब्‍ध नहीं है. बैंकों से इस आशय के प्रमाण पत्र के प्रस्‍तुत न किए जाने पर प्रतिपूर्ति के दावों पर विचार नहीं किया जाएगा. बैंक के निरीक्षण के दौरान नाबार्ड इनकी जांच करेगा.  
 
7.  साथ ही, बैंक/ शाखाओं का सांविधित लेखा परीक्षा करने वाले सभी लेखापरीक्षा दलों को ब्‍याज सहायता और त्‍वरित चुकौती प्रोत्‍साहन का लाभ लेने वाले सभी लाभार्थियों से संबंधित आधार/ आधार नामांकन संख्‍या की अनिवार्यता के अनुपालन की जांच की सलाह दी जाए. 
 
8.  कृपया आपके बैंक के सभी केसीसी खातों को लाभार्थी के आधार नंबर से जोड़ने संबंधी प्रमाण पत्र की पुष्टि 07 अगस्‍त 2020 को या उससे पहले हमारे क्षेत्रीय कार्यालय में प्रस्‍तुत की जाए  और इसकी एक प्रति हमें भेजी जाए.  इसे अति महत्‍वपूर्ण और आवश्‍यक समझा जाए.