Menu
जल अभियान
नाबार्ड ने विश्व जल दिवस (22.03.2017) के अवसर एक बड़े जल अभियान की शुरुआत की जो लगभग 1,00,000 ऐसे गांवों में चलाया जाएगा जहां भूमिगत जल का अतिशय शोषण हुआ है और जल की अत्यंत कमी हो गर्इ है. नाबार्ड के अध्यक्ष डॉ हर्ष कुमार भनवाला ने वीडियो कॉन्फरेन्स के जरिए राज्य सरकारों, बैंकों, गैर सरकारी संगठनों और अन्य हितधारकों के वरिष्ठ अधिकारियों की उपस्थिति में अभियान की शुरुआत की. प्रभावी सिंचार्इ पद्धतियों को अपनाने, भूमिगत जल के स्तर को फिर से ऊपर लाने और कृषि उत्पादकता में वृद्धि के लिए उपयुक्त फसल शैली में आम लोगों की भागीदारी इस अभियान की प्रमुख विशेषताएं हैं. नाबार्ड गांवों के स्तर पर कृषि जलदूतों का चयन करेगा ताकि इस अभियान को स्थानीय स्वरूप दिया जा सके और यह अधिक प्रभावी बन सके. ये जलदूत जल को एकत्र करने, प्रभावी तरीके से उसका उपयोग करने, भूमिगत जल के स्तर को फिर से ऊपर लाने और समन्वित कृषि प्रणालियों के विविध तरीकों के बारे में जागरूकता बढ़ाने का काम करेंगे. उनके कार्यों का समन्वय राज्य सरकारों, राज्य स्तरीय बैंकर समितियों, साझेदार गैर सरकारी संगठनों, कृषि विश्वविद्यालयों के प्रतिनिधियों और जल विशेषज्ञों तथा किसान क्लबों के वालंटियरों आदि के साथ मिलकर नाबार्ड के क्षेत्रीय कार्यालय करेंगे.
 
आयोजन
 

जल जागरूकता से संबंधित सामग्री
 
पोस्टर
 
स्थानीय भाषा
 
 
फिल्म
 
  • https://youtu.be/Zb-z3-PfJvE
  • https://youtu.be/OMm7DJic4s0
  • https://youtu.be/qXHmVaXkl6s
  • https://youtu.be/7NUV2c8cqlE
  • https://youtu.be/_Al6lPlnrjo
  • https://youtu.be/wBw-OQ_mB9U
  • https://youtu.be/ckvHXqx3-sY
  • https://youtu.be/Zq4wzTiOe4g
  • https://youtu.be/6SRKEmLZn5E
  • https://youtu.be/CiaFJreclr8
  • https://youtu.be/7RdLK-agjow
  • https://youtu.be/8IBIcYiPzoo