Menu

हमारे बारे में

प्रधान कार्यालय विभाग


प्रधान कार्यालय विभाग

विभाग का चयन करें
लेखा विभाग
व्‍यवसाय पहल विभाग
केन्‍द्रीय सतर्कता कक्ष
कार्पोरेट संचार विभाग
कार्पोरेट आयोजना विभाग
आर्थिक विश्लेषण और अनुसंधान विभाग (डीईएआर)
वित्तीय समावेशन और बैंकिंग प्रौद्योगिकी विभाग
सूचना प्रौद्योगिकी विभाग
परिसर, सुरक्षा और अधिप्राप्ति विभाग
पुनर्वित्‍त विभाग
भंडारण एवं विपणन विभाग
सब्सिडियरीज़ और स्ट्रेटेजिक निवेश विभाग
पर्यवेक्षण विभाग
कृषि क्षेत्र विकास विभाग
कृषि क्षेत्र नीति विभाग
मानव संसाधन प्रबंध विभाग
निरीक्षण विभाग
संस्‍थागत विकास विभाग
विधि विभाग
सूक्ष्‍म ऋण नवप्रवर्तन विभाग
कृषीत्तर क्षेत्र विकास विभाग
राजभाषा प्रभाग
जोखिम प्रबंधन विभाग
सचिव विभाग
राज्‍य परियोजना विभाग
वित्त विभाग
1.  आरंभ
 
नाबार्ड की स्थापना से ही निधि एवं वित्त विभाग बैंक के संसाधनों का प्रबंधन एवं लेखांकन करता था. बाद में विभाग को दो स्वतंत्र विभागों, वित्त विभाग तथा लेखा विभाग में विभाजित कर दिया गया. विभाजन का मुख्य उद्देश्य निधि प्रबंधन और लेखांकन की बढ़ी हुई और विशेष जरूरतों को पूरा करना था.
 
2.  विभाग के मुख्य कार्य
 
वित्त विभाग के तीन मुख्य कार्य हैं:
 
I.    संसाधन संग्रहण
II.    निधि का प्रेषण
III.    ट्रेजरी परिचालन
 
I. संसाधन संग्रहण
 
बैंक की निधियों की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए विभाग प्रकारों और अवधियों की लिखतों के मिश्र के माध्यम से संसाधनों का संग्रहण करता है, जैसे कि:
 
  • बॉन्ड  
  • जमा प्रमाणपत्र
  • वाणिज्यिक पत्र
  • सावधि जमा
  • कॉर्पोरेट उधार
  • मीयादी जमा
  • ग्रामीण आधारभूत सुविधा विकास निधि (RIDF) जमा
  • अल्पावधि सहकारी ग्रामीण ऋण (STCRC) जमा
  • अल्पावधि क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक (STRRB) जमा
  • दीर्घावधि ग्रामीण ऋण निधि (LTRCF) जमा
 
बॉन्ड  श्रेणी में खुदरा निवेशकों के लिए चार प्रकार के बॉन्ड  - पूंजीगत अभिलाभ बॉन्ड  (Capital Gains Bond), नाबार्ड ग्रामीण बॉन्ड (NABARD Rural Bond), भविष्य निर्माण बॉन्ड (Bhavishya Nirman Bond) तथा टैक्स फ्री बॉन्ड  (Tax Free Bond) जारी किए हैं. फिलहाल नाबार्ड ने इन बोण्ड्स में कोई नया निर्गम नहीं किया है, किन्तु इच्छुक निवेशक भविष्य निर्माण बॉन्ड अथवा टैक्स फ्री बॉन्ड सेकंडरी मार्केट (स्टॉक एक्स्चेंज) से खरीद सकते हैं।
 
अनुमोदित क्रेडिट रेटिंग एजेंसियों यथा क्रिसिल (CRISIL), आईसीआरए (ICRA), इंडिया रेटिंग (India Ratings) अथवा सीएआरई (CARE) से रेटिंग प्राप्त करने के बाद बॉन्ड, जमा प्रमाण पत्र और वणिज्यिक पत्र जारी किए जाते हैं. भविष्य निर्माण बॉन्ड , जो कि 10 वर्ष की अवधि वाले शून्य कूपन बॉन्ड  हैं तथा कर-मुक्त बॉन्ड की रेटिंग कम से कम दो एजेंसियों द्वारा की गई थी. नाबार्ड के निर्गमों को क्रेडिट रेटिंग एजेंसी से `एएए` (सर्वोच्च) अथवा इसके समकक्ष रेटिंग मिली है.
 
संस्थागत निवेशकों को जारी बॉन्ड  नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) में सूचीबद्ध हैं जबकि भविष्य निर्माण बॉन्ड  तथा कर-मुक्त बॉन्ड  बंबई स्टॉक एक्सचेंज (BSE) में सूचीबद्ध हैं. फुटकर लिखतों (अर्थात पूंजी अभिलाभ बॉन्ड , नाबार्ड ग्रामीण बॉन्ड  और भविष्य निर्माण बॉन्ड ) की सर्विसिंग मेसर्स यूटीआई इन्फ्रास्ट्रक्चर टेक्नोलोजी एंड सर्विसेज लि. द्वारा की जाती है जो कि हमारे रजिस्ट्रार और ट्रांसफर एजेंट हैं. कार्पोरेट बांडों की सर्विसिंग मेसर्स डाटमेटिक्स फाइनेंशियल सर्विसेज लि. द्वारा की जाती है. कार्पोरेट बांडों तथा भविष्य निर्माण बांडों के लिए आईडीबीआई ट्रस्टीशिप सर्विसेज लि. ट्रस्टी है. 2015-16 में जारी कर-मुक्त बॉन्ड के लिए एक्सिस ट्रस्टी सर्विसेज डिबेंचर ट्रस्टी तथा लिंक इनटाइम रजिस्ट्रार के रूप में सेवाएं देते हैं.

नाबार्ड के अनुपालन अधिकारी श्री टी एस शिवशंकरण है। शिकायत या सूचना हेतु बॉन्ड निवेशक उनसे ई-मेल द्वारा compliance.officer@nabard.org पर संपर्क कर सकते हैं। नाबार्ड के रीटेल बॉन्ड के निवेशक अपने बॉन्ड संबंधी प्रश्न retail.bonds@nabard.org पर भी भेज सकते हैं।

 
II. निधि प्रेषण
 
ऋण परिचालन एवं अन्य प्रयोजनों के लिए वित्त विभाग क्षेत्रीय कार्यालयों और ग्राहक संस्थानों (वाणिज्य बैंकों, क्षेत्रीय ग्रामीण बैंकों, राज्य सहकारी कृषि और ग्रामीण विकास बैंकों, राज्य सहकारी बैंकों और जिला मध्यवर्ती सहकारी बैंकों) तथा राज्य सरकारों को सीधे अथवा क्षेत्रीय कार्यालयों के माध्यम से निधि का प्रेषण करता है.
 
III. ट्रेजरी परिचालन
 
वित्त विभाग बैंक के व्यवसाय परिचालनों और प्रशासनिक कार्यो के लिए पर्याप्त तरल संसाधन सुनिश्चित करने के लिए ट्रेजरी का परिचालन करता है. ट्रेजरी द्वारा बैंक की अधिशेष निधियों का निवेश नाबार्ड अधिनियम के प्रावधानों, भारतीय रिजर्व बैंक के मार्गनिर्देशों, निदेशक बोर्ड तथा निवेश समिति द्वारा दिए गए निर्देशों के अनुसार विभिन्न लिखतों में किया जाता है।

IV. राष्ट्रीय स्तर पर विभाग की महत्वपूर्ण उपलब्धियां
 
  • भारत सरकार ने वित्त वर्ष 2016-17 से प्रतिष्ठित दीर्घावधि सिंचाई निधि (LTIF) हेतु कई चरणों में होने वाले संसाधन संग्रहण का उत्तरदायित्व नाबार्ड को सौंपा है।
  • नए उठाए कदमों में, नाबार्ड ट्रेज़री ने राज्य सरकारों द्वारा जारी ऋण पत्रों (SDL) पर आधारित CROMS प्लैटफ़ार्म में भी भाग लेना आरंभ कर दिया है।
  • भविष्य निर्माण बॉन्ड - नाबार्ड के 10 वर्ष की अवधि के शून्य कूपन बॉन्ड का पूर्ण मियादी भुगतान सीरीज़ अनुसार 01 मार्च 2017 से शुरू हो गया है।
 
  • भविष्य निर्माण बॉन्ड
  •  
    संपर्क विवरण
     
    श्री एस के बंसल
    मुख्य महाप्रबंधक 
    दूसरी मंजिल, ‘डी’ विंग
    सी-24, 'जी' ब्लॉक, बांद्रा-कुर्ला काम्प्लेक्स
    बांद्रा (पूर्व), मुंबई - 400 051 
    टेली (91) 022 26530095, (91) 022-26539248
    फ़ैक्स (91) 022 26530099,    
    ई-मेल - fd@nabard.org