About Us

आर्थिक विश्लेषण और अनसुंधान विभाग

आर्थिक विश्लेषण और अनुसंधान विभाग (डीईएआर) की स्थापना नाबार्ड, सरकार और अन्य हितधारकों के संगत मामलों पर उन्हें नीतिगत और कार्योन्मुख अनुसंधान सहयोग उपलब्ध कराने के उद्देश्य से की गई. यह विभाग नाबार्ड के अधिदेश के अनुसरण में कृषि और ग्रामीण विकास से जुड़ी ज्ञान-संचालित गतिविधियों में विशेषज्ञता रखता है.

इस विभाग की शक्ति व्यावसायिक अर्थशास्त्रियों के संवर्ग और अन्य प्रतिष्ठित संस्थाओं के साथ पारस्परिक संबंध और सहयोग स्थापित करने के इसके सामर्थ्य में निहित है.

विज़न

“नाबार्ड के एक उत्कृष्ट गुणवत्ता वाले अनुसंधान स्कन्ध के रूप में विकसित होना जो अभिनव विचारों के सृजन, नीतिगत जानकारी के विकास में सहयोग और नीतिगत विकल्पों के मूल्यांकन के लिए ऐसे अनुसंधान का संचालन और समन्वय करे जिससे संगठन के उद्देश्यों की प्राप्ति में प्रबंधन को सहयोग मिले और अनुसंधान के ऐसे परिणाम सामने आएँ जो विशेष रूप से ग्रामीण ऋण के आयामों तथा सामान्य रूप से समग्र ग्रामीण विकास की नाबार्ड की समझ में बेहतरी लाएँ.”

मूल कार्य

अ. अनुसंधान अध्ययनों के माध्यम से प्रबंधन को नीतिगत जानकारी उपलब्ध कराना:

  • प्रधान कार्यालय और क्षेत्रीय कार्यालयों में संगठन के भीतर के विषय विशेषज्ञों के माध्यम से आंतरिक अध्ययन और अन्य अनुसंधान गतिविधियाँ चलाना
  • राज्य/ क्षेत्र-विशिष्ट मुद्दों पर प्रतिष्ठित अनुसंधान संस्थाओं के सहयोग से अनुसंधान संचालित करना.

आ. अनुसंधान और विकास निधि का प्रबंधन

नाबार्ड ने मोटे तौर पर निम्नलिखित प्रयोजनों के लिए अनुसंधान सहायता उपलब्ध कराने के लिए नाबार्ड अधिनियम, 1981 के प्रावधानों के अनुसार अनुसंधान और विकास निधि की स्थापना की:

  • अनुसंधान परियोजनाएँ/ अध्ययन

अनुसंधान और विकास निधि से सहायता-प्राप्त अनुसंधान और विकास परियोजनाओं का लक्ष्य गहन अध्ययनों, अनुप्रयुक्त अनुसंधान और नवोन्मेषी पद्धतियों के माध्यम से कृषि और ग्रामीण विकास की समस्याओं के समाधान के लिए अंतर्दृष्टि प्राप्त करना होता है. 2021-22 के दौरान मंजूर किए गए अध्ययनों में विविध क्षेत्रों का समावेश है, जैसे मूल्य शृंखला विश्लेषण, वर्षा और टैंक में भंडारण, कृषि-बाजार, मेगा फूड पार्क, सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम (एमएसएमई), स्वयं सहायता समूह (एसएचजी)/ संयुक्त देयता समूह (जेएलजी) के अंतर्गत ऋण का प्रभाव मूल्यांकन, सफल किसानों की कहानियों का दस्तावेजीकरण, ‘मेरा पैड, मेरा अधिकार’ के अंतर्गत महिला सशक्तीकरण, कृत्रिम बुद्धिमत्ता आदि. वित्तीय वर्ष 2021-22 के दौरान निम्नलिखित अध्ययन पूरे किए गए:

क्र. सं. अध्ययन का विषय रिपोर्ट पढ़ने के लिए क्लिक करें
1 ग्रामीण महाराष्ट्र के लिए संधारणीय विकास लक्ष्य: उपलब्धियाँ और बाधाएँ https://www.nabard.org/auth/writereaddata/tender/2202225133nrs-19-sdgs-for-rural-maharashtra-achievements-and-constraints.pdf
2 भारत में कृषि मूल्य शृंखला: प्रतिस्पर्धा, समावेशन, संधारणीयता, बड़े पैमाने पर किए जाने की क्षमता और बेहतर वित्त https://www.nabard.org/auth/writereaddata/tender/2302225955agricultural-value-chains-in-india-ensuring-cissf.pdf
3 यूएनएफसीसी अनुकूलन निधि से निधिपोषित जलवायु परिवर्तन अनुकूलन परियोजनाओं की मध्यावधि मूल्यांकन रिपोर्ट https://www.nabard.org/auth/writereaddata/tender/0903222313nrs-20-mid-term-evaluation-of-Climate-change-adaptation-projects.pdf
4 वस्त्र निर्माण के लिए केले के स्यूडोस्टेम के उपयोग पर अध्ययन https://www.nabard.org/auth/writereaddata/tender/2803221907utipzation-of-banana-pseudostem-for-textiles.pdf
5 भारत में कृषि ऋण माफी: प्रभाव आकलन और आगे की राह https://www.nabard.org/auth/writereaddata/tender/2304223730farm-loan-waivers-in-india-assessing-impact-and-looking-ahead_compressed.pdf
6 ग्रामीण संकट: कारण, परिणाम और समाधान (विफलता का सामना करने की शक्ति) https://www.nabard.org/auth/writereaddata/tender/2405224430rural-distress-causes-consequences-and-cures-antifragipty.pdf
7 कृषक उत्पादक संगठनों (एफपीओ) को आरंभिक मार्गदर्शन और सहयोग (क्षमता निर्माण और सुविधा प्रदाय): कार्यान्वयन संरचना https://www.nabard.org/auth/writereaddata/tender/2705222930nrs-24-handholding-of-fpos-framework-to-implementation.pdf
8 भारत में एफपीओ के प्रकरण अध्ययन, 2019-21 https://www.nabard.org/auth/writereaddata/tender/0306220035case-studies-of-fpos-in-india-2019-21.pdf
9 राजस्थान और गुजरात के शुष्क क्षेत्रों में चारे के स्रोत के रूप में कैक्टस पीयर (Opuntia ficus indica) https://www.nabard.org/auth/writereaddata/tender/1606221124nrs-26.pdf
10 खारे पानी में संधारणीय जलचरपालन हेतु तमिलनाडु के तिरुवल्लूर और काँचीपुरम जिलों की तटीय वाटरशेड-आधारित ऊपरी तल और अवतल लवणीयता की मैपिंग और मॉडलिंग https://www.nabard.org/auth/writereaddata/tender/2107222737NRS-27-Coastal-Watershed-Based-Surface-and-Sub-Surface-Sapnity-Mapping.pdf
11 क्षेत्रीय ग्रामीण बैंकों की परिचालनात्मक और वित्तीय दक्षता में सुधार लाने पर अध्ययन https://www.nabard.org/auth/writereaddata/tender/2208225431study-on-improving-operational-and-financial-efficiency-of-rrbs.pdf
  • संगोष्ठी/ सम्मेलन/ वेबिनार आदि
  • हितधारकों के बीच अनुसंधान के निष्कर्षों के प्रसार के लिए संगोष्ठियाँ प्रायोजित करने के लिए भी अनुसंधान और विकास निधि का उपयोग किया जाता है. संगोष्ठी के प्रकाशनों के लिए सहयोग देकर नाबार्ड कृषि और ग्रामीण विकास से जुड़ी विषय-वस्तु पर अनुसंधान से निकली जानकारी को अनेक क्षेत्रों में प्रसारित करने का प्रयास करता है और इस तरह संगत नीति निर्माण में सहायक होता है.

  • नाबार्ड पीठ इकाई योजना
  • नाबार्ड पीठ इकाई योजना को प्रतिष्ठित संस्थाओं के साथ सुदृढ़ संबंध स्थापित करने के लिए डिजाइन किया गया है ताकि नाबार्ड की रुचि के क्षेत्रों में व्यापक अनुसंधान किया जा सके.

  • सामयिक पत्र/ अनुसंधान और नीति शृंखला
  • विभाग नाबार्ड के परिचालनों से जुड़े संगत सामयिक मुद्दों पर सामयिक पत्र/ अनुसंधान और नीति शृंखला प्रकाशित करता है. इस शृंखला के पत्रों में जलवायु परिवर्तन से लेकर कृषि मूल्य नीति, मूल्य शृंखला, स्टार्ट-अप, पशुधन आदि विषयों को शामिल किया गया जिनमें विभिन्न मुद्दों, नीतिगत संगति, विहित पद्धतियों के उल्लेख के साथ-साथ नाबार्ड से संगत विषयों पर भविष्य में लाए जाने वाले पत्रों के बारे में सुझावों को भी शामिल किया गया. लोगों तक व्यापकतर पहुँच के लिए इन्हें हमारी वेबसाइट पर अपलोड किया गया है. इस शृंखला के अंतर्गत जारी पत्र निम्नानुसार हैं:

क्र. सं. प्रकाशन का विषय पढ़ने के लिए क्लिक करें
1 भारत में खाद्य सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए कृषि मूल्य नीति https://www.nabard.org/auth/writereaddata/tender/1507223217Paper-1-%20Agri-Price-Policy-Dr.Kumar-&-Mittal.pdf
2 विकास की छाँव में: भारत के कृषि विकास में वर्षा-आधारित कृषि और सूखा https://www.nabard.org/auth/writereaddata/tender/2007223429Paper-2-%20Rainfed-Agriculture-Dr.-Deshpande.pdf
3 भारतीय खाद्य प्रणाली नवोन्मेष, उत्तरजीविता और निवेश को डिजिटाइज करने वाले स्टार्ट-अप https://www.nabard.org/auth/writereaddata/tender/1507223444Paper-3-Startups-Digitising-Food-System-Dr.Chandra.pdf
4 भारतीय कृषि में जलवायु परिवर्तन और जोखिम प्रबंधन https://www.nabard.org/auth/writereaddata/tender/2007223845Paper-4-Climate-and-Risk-Management-Dr.-Birthal.pdf
5 भारत में कृषि प्रौद्योगिकी: एक समीक्षा https://www.nabard.org/auth/writereaddata/tender/1507223612Paper-5-Agricultural-Tech-in-India-Dr.Joshi-&-Varshney.pdf
6 21 वीं सदी के लिए कृषि चुनौतियाँ और नीतियाँ https://www.nabard.org/auth/writereaddata/tender/1507223654Paper-6-Agri-Challenges-and-Policies-Dr.Chand.pdf
7 भूजल बाजार और कृषि विकास: दक्षिण एशिया का विहंगावलोकन https://www.nabard.org/auth/writereaddata/tender/1310223041paper-8-groundwater-markets-dr-tushhar-shah.pdf
8 पशुधन, कृषि वृद्धि और गरीबी में कमी https://www.nabard.org/auth/writereaddata/tender/1310223010paper-7-livestck-dr-birthal.pdf
9 भारत में टैंक सिंचाई: भविष्यगत प्रबंधन कार्यनीतियाँ और निवेश के विकल्प https://www.nabard.org/auth/writereaddata/tender/2911220521paper-10-tank-irrigation-in-india-by-dr-palanisami.pdf
10 कृषि और ग्रामीण विकास के लिए संस्थाएँ: भारत में जल संस्थाओं का एक प्रकरण अध्ययन – रतिनासामी मारिया सलेत https://www.nabard.org/auth/writereaddata/tender/2911220427paper-9-agriculture-and-rural-inst-by-dr-saleth.pdf
  • विद्यार्थियों से जुड़ाव
  • नाबार्ड 2005-06 से ही स्टूडेंट इंटर्नशिप स्कीम के माध्यम से विद्यार्थी समुदाय से जुड़ा रहा है. इस योजना का उद्देश्य नाबार्ड के लिए उपयोगी और संगत अल्पावधि कार्य/ परियोजनाएँ अध्ययन विद्यार्थियों को सौंपना है. हमने विद्यार्थियों के साथ अपने जुड़ाव के दायरे को विस्तार दिया है और इसमें नई योजनाएँ शामिल की हैं, नामतः (i) ग्रामीण चिंतन, (ii) नाबार्ड स्वर्ण पदक योजना और (iii) नाबार्ड विशिष्ट पीएच. डी. शोधपत्र पुरस्कार.

इ. नाबार्ड की वार्षिक रिपोर्ट

विभाग प्रति वर्ष नाबार्ड की वार्षिक रिपोर्ट प्रकाशित करता है जिसमें पूर्व वित्तीय वर्ष के दौरान नाबार्ड की प्रमुख गतिविधियों की समग्र जानकारी दी जाती है. इस रिपोर्ट के साथ संगत वर्ष के लेखे और प्रमुख सांख्यिकीय विवरण भी संलग्न किए जाते हैं.

ई. नाबार्ड की संधारणीयता रिपोर्ट

नाबार्ड जीआरआई दिशानिर्देशों के आधार पर अपनी संधारणीयता रिपोर्ट तैयार करता है. यह रिपोर्ट संगठन के आर्थिक, पर्यावरणीय, सामाजिक और अभिशासन संबंधी कार्यनिष्पादन के बारे में जानकारी देती है. इसमें पर्यावरण, समाज और अर्थव्यवस्था पर संगठन के कामकाज के महत्वपूर्ण प्रभावों का भी उल्लेख किया जाता है.

उ. अर्थव्यवस्था की ट्रैकिंग

विभाग ने भारत की ग्रामीण अर्थव्यवस्था के विभिन्न पहलुओं से संबंधित महत्वपूर्ण डाटा को एकत्र कर एक डाटा ट्रैकिंग प्रणाली, टिल्टेड ग्रामीण अर्थव्यवस्था ट्रैकर (आरईटी) का विकास किया था. इसे नया रूप देकर साप्ताहिक/ मासिक बुलेटिनों (‘इकोवाच’, ‘इकोथिंक’) के रूप में परिवर्तित किया गया है जिनमें अर्थव्यवस्था की स्थिति और साथ ही ब्याज दर के उतार-चढ़ाव, मुद्रास्फीति, बॉण्ड यील्ड आदि के संबंध में दृष्टिकोण प्रस्तुत किया जाता है.

ऊ. समितियों/ विशेषज्ञ कार्य समूहों को सहयोग

विभाग ग्रामीण संकट, मूल्य शृंखलाओं, किसानों की आय को दोगुना करने, कृषक उत्पादक संगठनों, कृषि वृद्धि, जलवायु परिवर्तन, सामाजिक स्टॉक एक्सचेंज जैसे विविध विषयों के संबंध में विचारार्थ गठित विभिन्न समितियों को विविध मंचों पर जानकारी उपलब्ध कराता है. जिन समितियों में नाबार्ड की भूमिका होती है उन्हें विभाग और विभाग के अधिकारी अकादमिक/ सचिवीय सहयोग भी देते हैं.

ऋ. केन्द्रीय पुस्तकालय

ज्ञान स्रोत के माध्यम से सहयोग उपलब्ध कराने के लिए विभाग के पास केन्द्रीय कार्यालय में एक अतिसमृद्ध पुस्तकालय है जिसमें 25000 से अधिक पुस्तकों के अलावा जर्नल, समाचारपत्र, पत्रिकाएँ और ऑन-लाइन सब्स्क्रिप्शन उपलब्ध हैं.

ए. आंतरिक अनुसंधान/ अध्ययन/ प्रकाशन:

विभाग आंतरिक अनुसंधान संचालित करता है और भारतीय कृषि और ग्रामीण विकास से संगत मुद्दों पर रिपोर्टें प्रकाशित करता है.

(क) आंतरिक पुस्तिकाएँ

क्र. सं प्रकाशन का विषय रिपोर्ट पढ़ने के लिए क्लिक करें
1 भारत में कृषक कल्याण: राज्य-वार विश्लेषण https://www.nabard.org/auth/writereaddata/tender/1710224557farmers-welfare-in-india-a-state-wise-analysis.pdf
2 ग्रामीण अर्थव्यवस्था पर लेखन https://www.nabard.org/auth/writereaddata/Flipbook/2021/april-2021/Writings-on-Rural-Economy-nabnet/
3 समान भविष्य हासिल करना https://www.nabard.org/auth/writereaddata/tender/0605214838Womens%20Day-booklet.pdf
4 भारतीय अर्थव्यवस्था का अ क्वार्टर एंड फोर https://www.nabard.org/auth/writereaddata/tender/1708220848a-quarter-and-four.pdf

(ख) कार्य पत्र

क्र. सं. प्रकाशन का विषय रिपोर्ट पढ़ने के लिए क्लिक करें
1 विभिन्न फसलों में भारत की कृषि वृद्धि के पाँच दशक: उभरती प्रवृत्तियाँ और शैलियाँ https://www.nabard.org/auth/writereaddata/tender/2609222521five-decades-of-indias-agricultural-growth-across-crops-emerging-trends-and-patterns.pdf
2 नाफ़इंडेक्स: नाबार्ड अखिल भारतीय ग्रामीण वित्तीय समावेशन सर्वेक्षण (नाफिस) डाटा के आधार पर वित्तीय समावेशन का मापन https://www.nabard.org/auth/writereaddata/tender/1008204111WP2020_1.pdf

(ग) रूरल पल्स

नाबार्ड अपने स्टाफ द्वारा किए गए विश्लेषणात्मक अनुसंधान पर आधारित रूरल पल्स का प्रकाशन करता है जो ज्ञान के प्रसार के लिए एक मंच की भूमिका निभाता है. अब तक रूरल पल्स के 38 अंक प्रकाशित हो चुके हैं, जिनमें से कुछ निम्नानुसार हैं:

क्र. सं. विषय प्रकाशन को पढ़ने के लिए क्लिक करें
1 नाफ़इंडेक्स: नाबार्ड अखिल भारतीय ग्रामीण वित्तीय समावेशन सर्वेक्षण (नाफिस) डाटा के आधार पर वित्तीय समावेशन का मापन https://www.nabard.org/auth/writereaddata/tender/2106212528Rural%20Pulse%20Issue%20XXXIII.pdf
2 भारत में पुन: पीत क्रांति का आरंभ https://www.nabard.org/auth/writereaddata/tender/2106212557Rural%20Pulse%20Issue%20XXXIV%20(1).pdf
3 भारतीय हथकरघा क्षेत्र: एक झलक https://www.nabard.org/auth/writereaddata/tender/0510214344rural-pulse-special-issue.pdf
4 भारत में बागबानी फसलों की बाजारगत कमजोरियाँ और संभावनाएँ https://www.nabard.org/auth/writereaddata/tender/2709220841market-vulnerabilities-and-potential-of-horticulture-crop-in-india.pdf
5 विपरीत पलायन के नजरिए से कोविड -19 संकट https://www.nabard.org/auth/writereaddata/tender/2312213756rural-pulse-covid-induced-migration-final-comments.pdf
6 कृषक कल्याण के मापन की पद्धति https://www.nabard.org/auth/writereaddata/tender/0607220511rural-pulse-issue-no-xxxvii.pdf
7 कृषि मूल्य शृंखला का वित्तपोषण – एफपीओ को केन्द्रीय भूमिका में रखते हुए https://www.nabard.org/auth/writereaddata/tender/0808222219rural-pulse-issue-XXXVIII.pdf
8 सुदृढ़ अर्थव्यवस्था के लिए पोषक अनाज https://www.nabard.org/auth/writereaddata/tender/1710220625nabard-rural-pulse-Issue-no-xxxviii-June-July-2022.pdf

(घ) सामयिक मुद्दों पर प्रतिष्ठित जर्नलों में अधिकारियों के आलेख/ पत्र

नाबार्ड के अधिकारी नाबार्ड के विषय-क्षेत्र से जुड़े सामयिक मुद्दों पर आलेख देते रहे हैं. कुछ हालिया प्रकाशनों का विवरण निम्नानुसार है:

क्र. सं. प्रकाशन का विषय पढ़ने के लिए क्लिक करें
1 भारत में वित्तीय समावेशन https://www.nabard.org/auth/writereaddata/tender/2309220440kurukshetra-article.pdf
2 भारत में कृषक कल्याण – राज्य-वार विश्लेषण https://www.nabard.org/auth/writereaddata/tender/2609223014measuring-farmers-welfare-an-analysis-across-states-of-india.pdf
3 ग्रामीण ऋण – क्या हम इसे अधिक समावेशी बना सकते हैं? https://www.nabard.org/auth/writereaddata/tender/2609223632can-we-make-rural-credit-inclusive.pdf
4 कोविड-19 महामारी के बीच भारत के कृषि बाजार की प्रवृत्तियाँ और कार्यनिष्पादन https://www.nabard.org/auth/writereaddata/tender/2709224946trends-and-performance-of-indias-agricultural-trade-in-the-midst-of-covid-19-pandemic.pdf
5 उत्तर प्रदेश के विशेष संदर्भ में कृषि ऋण में वृद्धि और समस्याएँ : एक जिला-स्तरीय विश्लेषण https://www.nabard.org/auth/writereaddata/tender/2709222005growth-and-issues-in-agricultural-credit.pdf
6 पूर्वोत्तर क्षेत्र में संस्थागत ऋण प्रवाह: समस्याएँ और समाधान https://www.nabard.org/auth/writereaddata/tender/2709225325institutional-credit-flow-in-north-eastern-region-issues-and-solutions.pdf
7 भारत में बागबानी फसलों की बाजारगत कमजोरियाँ और संभावनाएँ: शीर्ष फसलों के विशेष संदर्भ में https://www.nabard.org/auth/writereaddata/tender/2709225958market-vulnerabilities-and-potential.pdf
8 एफपीओ की व्यवसाय पारिस्थितिकी को समझना और संभावनाओं के दोहन की रणनीतियाँ https://www.nabard.org/auth/writereaddata/tender/2709220406understanding-of-fpos-business-ecosystem-and-strategies-to-tap-potential.pdf
महत्वपूर्ण लिंक

संपर्क विवरण

डॉ. के. सी. बड़ात्या
मुख्य महाप्रबंधक
दूसरा माला, ‘बी’ विंग, सी-24, ‘जी’ ब्लॉक
बांद्रा-कुर्ला कॉम्प्लेक्स, बांद्रा (पूर्व)
मुंबई - 400051
टेली: (91) 022 – 26523617
ई-मेल पता: dear@nabard.org

आरटीआई के अंतर्गत सूचना – धारा 4(1)(बी)

नाबार्ड प्रधान कार्यालय