Menu

हमारे बारे में

ABOUT NABARD


निदेशक मंडल

डॉ. अनूप कुमार दाश

शैक्षिक योग्यता:
 
पीएचडी
 
व्यावसायिक अनुभव: 
 
डॉ दाश विकासशील समाजशास्त्री हैं. उन्होंने उत्कल विश्वविद्यालय, भुवनेश्वर (ओडिशा) में समाजशास्त्र के प्रोफेसर के रूप में काम किया है. यूनिवर्सिटी ऑफ ब्रेमेन (जर्मनी), ओसनाब्रुएक (जर्मनी), और अर्बेटसिवसेंट्रम, स्टॉकहोम (स्विडिश इन्स्टिट्यूट की फेलोशिप पर) और न्यू हैम्पशायर (यूएसए) के विश्वविद्यालय में मैनेजमेंट डेवलपमेंट इन्स्टिट्यूट (माइक्रोफिनान्स) में फोर्ड फाउंडेशन फेलो. 
 
उपलब्धियां और प्रमुख योगदान: 
 
डॉ दाश नीचे दिए गए क्षेत्रों में अपने अनुसंधान के लिए जाने जाते हैं:  
 
  • सामाजिक और समन्वित अर्थव्यवस्था 
  • महिला, गरीबी और सूक्ष्मवित्त 
  • दीर्घकालिक आजीविका 
  • महिलाओं के स्वयं सहायता समूह और सामाजिक उद्यमिता 
  • लाभ-निरपेक्ष, सामाजिक नवोन्मेष और सामाजिक कार्यनिष्पादन प्रबंधन  
उनकी रुचि के विषयों में सामाजिक वित्त और सामाजिक बैंकिंग, सामाजिक जिम्मेदारी और प्रभाव निवेश, कारपोरेट सामाजिक जिम्मेदारी, सामुदायिक वित्तपोषण, स्थानीय संस्था निर्माण और सामुदायिक सशक्तीकरण और जीडीपी से परे विकास शामिल है. 
 
डॉ दाश इन विषयों पर लिखने वाले लोकप्रिय लेखक हैं और उन्होंने अपने अनुसंधान के माध्यम से इन विषयों पर कर्इ व्याख्यान भी दिए हैं. 
 
ग्लासगो में सिविकस विश्व सभाओं में डॉ दाश ने स्वैच्छिक संगठनों के स्कॉटिश काउंसिल के साथ मिलकर विकासलक्षी संगठनों के लिए परिणाम आधारित अभिशासन और प्रभाव के प्रति दायित्व पर तीन कार्यशालाओं की शृंखला का समन्वय किया. 
उन्होंने विएना में “चॅलेंज सोशल इनोवेशन” पर एफपी7 (सामाजिक आर्थिक विज्ञान और मानवशास्त्र) अनुसंधान सम्मेलन, यूरोपीय संघ में सामाजिक विकास और नवोन्मेष पर सत्र की सह-अध्यक्षता की और “सामाजिक नवोन्मेष और सूक्ष्मवित्त के लिए संस्थागत चुनौतियों” पर वक्तव्य दिया. 
 
डॉ दाश को 21वीं सदी के लिए सहकारिता विकास पर विचार मंथन में योगदान करने के लिए इंटरनेशनल कोऑपरेटिव अलायंस द्वारा आमंत्रित किया गया (आर्इसीए/सीकोपा, ब्रसेल्स 2013). 
 
निर्धनता पर सूक्ष्म वित्त के सुधारात्मक प्रभाव को तीन ब्रिटिश विश्वविद्यालयों (यूनिवर्सिटी ऑफ ससेक्स, यूनिवर्सिटी ऑफ बाथ और यूनिवर्सिटी ऑफ शेफील्ड) के समन्वय से और फोर्ड फाउंडेशन, यूएसए के सहयोग से ग्लोबल रिसर्च के माध्यम से किए गए उनके कार्य की, जिसमें पूरी दुनिया के लगभग 30 सहयोगी शामिल थे, विश्व स्तर पर विकास वित्त संस्थाओं के सामाजिक आकलन और सामाजिक कार्यनिष्पादन को रूप देने में अत्यधिक प्रभावशाली भूमिका रही. 
 
हाल ही में, डॉ दाश को अंतरराष्ट्रीय श्रम संगठन के साउथ-साउथ एण्ड ट्रायंगुलर कोऑपरेशन (एसएसटीसी) फेलो के रूप में सोशल एण्ड सोलिडॅरिटी इकॉनॉमी (एसएसर्इ) जोहान्सबर्ग (दक्षिण अफ्रिका, 2015), संयुक्त राष्ट्र संघ सामाजिक विकास संस्थान (यूएनआरआर्इएसबी)/ आर्इएलओ फोरम ऑन सोशल एण्ड सोलिडॅरिटी इकॉनॉमी (2014) और सोशल एण्ड सोलिडॅरिटी फिनान्स (2015), जेनेवा में आमंत्रित किया गया.